एएसआई के हाथ की प्लास्टिक सर्जरी करने वाली टीम में थी किन्नौर की बेटी

बीते दिनों पंजाब के पटियाला में पंजाब पुलिस के एएसआई हरजीत सिंह के हाथ काटने का मामला सामने आया था इस हादसे के बाद एएसआई का हाथ शरीर से अलग हो गया था और तुरंत मौके पर मौजूद पुलिस ने पीड़ित एएसआई को पीजीआई चंडीगढ़ पहुंचाया। पीजीआई में 8 घंटे तक चली सर्जरी में डॉक्टर की टीम ने हाथ को जोड़ने में कामयाबी हासिल की थी । इस दौरान सर्जिकल टीम के साथ किन्नौर जिले के लिप्पा से नर्सिंग अधिकारी स्नेहा नेगी ने भी सेवाएं देकर प्रदेश और किन्नौर सहित लिप्पा गांव का नाम रोशन किया है। पूरी टीम को डीजीपी ऑनर फोर्स एगजारी सेवा टू सोसाइटी के लिए चुना गया है। इससे लिप्पा गांव में खुशी की लहर है। पंचायत प्रधान गीता राम नेगी ने लिप्पा से स्नेहा नेगी को पंचायत में बुलाकर सम्मानित करने का निर्णय लिया है।

जानकारी के मुताबिक स्नेहा नेगी(23) ने हाल ही में पीजीआई चंडीगढ़ में पंजाब पुलिस के एएसआई के हाथ काटने के बाद प्लास्टिक सर्जरी के डॉक्टर टीम में शामिल होकर अपनी सेवाएं दी है स्नेहा नेगी ने बीएससी नर्सिंग पीजीआई चंडीगढ़ से की है अपने मां-बाप की तीनों बेटियों में से यह मध्य बेटी है इनकी बड़ी बहन संतोष नेगी भी पीजीआई चंडीगढ़ में नर्सिंग ऑफिसर के पद पर तैनात हैं

पिता धर्म सिंह नेगी हिमाचल पुलिस में बतौर इस्पेक्टर सोलन कोटला नाला में पुलिस थाने में कार्य कर रहे हैं माता राम देवी गृहिणी है माता-पिता का कहना है की सूचना मिली है उनकी बेटी को अवार्ड मिलना है इस पर उन्हें गर्व है डीएवी स्कूल रिकांग पिओ से स्नेहा नेगी ने शिक्षा की शुरुआत की थी मैट्रिक और प्लस टू एमआरडीए स्कूल डीएवी सोलन से पास करने के उपरांत पीजीआई की नर्सिंग एंट्रेंस परीक्षा में प्रथम रही थी और डेढ़ साल से चंडीगढ़ में नर्सिंग स्टाफ के रूप में सेवा दे रही है।

स्नेहा नेगी ने बताया कि पंजाब पुलिस के अधिकारी को जब प्लास्टिक सर्जरी के लिए अस्पताल लाया गया था तो सर्जरी में 8 घंटे का समय लग गया प्लास्टिक सर्जरी से डॉक्टर और नर्स टीम को इनके कटे हाथ को जोड़ने में सफलता मिली उधर लिप्पा के ग्राम पंचायत प्रधान गीताराम नेगी ने सरकार की ओर से स्नेहा को सम्मानित करने के फैसले पर खुशी जाहिर की है इससे लिप्पा गांव और किन्नौर का नाम रोशन हुआ है इसलिए लिप्पा ग्रामवासी भी स्नेहा नेगी को सम्मानित करेंगे।

Related posts

4 Thoughts to “एएसआई के हाथ की प्लास्टिक सर्जरी करने वाली टीम में थी किन्नौर की बेटी”

  1. My husband and i felt now fortunate Emmanuel could conclude his investigation from your ideas he gained in your site. It’s not at all simplistic just to choose to be giving for free information that most people have been making money from. And we all do understand we have the website owner to be grateful to because of that. The explanations you’ve made, the easy site menu, the friendships you can give support to engender – it’s everything extraordinary, and it’s facilitating our son and our family feel that that idea is enjoyable, and that is highly important. Many thanks for all the pieces!

  2. Your style is very unique compared to other people I’ve
    read stuff from. Many thanks for posting when you have the
    opportunity, Guess I’ll just bookmark this site.

Leave a Comment